आओ जुड़ें हिसार से.........

बरसों पहले हम सब हिसार को छोड़कर अलग अलग समय दिल्‍ली में आकर बसे। आज जब पीछे मुड़कर देखते हैं तो लगता है कि व्‍यवसायिक सफलता और यश तो मिले पर अपने शहर का साथ छूट गया।  अपनी माटी से कटाव कभी कभी चुभने लगता है। पारिजात चौक, नागौरी गेट, कटला रामलीला, गुजरी महल, लाहौरिया मंदिर आदि का जिक्र आते ही अपनापन लगने लगता है।

अब हिसार लौटना तो संभव नहीं है, परंतु हिसार के जो लोग यहां बसे हुए हैं, उनसे मिलकर  हमें जरूर अच्‍छा लगेगा। आपके अनेक पुराने परिचित यहां हैं, जिनके आपकी मुलाकात नहीं होती पर उनसे आपकी अनेक यादें जुड़ी हुई हैं। ऐसे ही पुराने संबंधों को ताजा करने के लिये बनाया गया है हिसार परिवार।

इस संस्‍था का उद्देश्‍य स्‍वस्‍थ पारिवारिक मनोरंजन, मेल मिलाप, हिसार के प्रतिभावान लोगों का सम्‍मान, हिसार के महापुरूषों की याद और विवाह हेतु सदस्‍यों के रिश्‍तों में मदद करना है।

हिसार जिले के लोगों का इसमें स्‍वागत है|

अशोक गोयल, अध्यक्ष

Like Us On Facebook

Gallery

Matrimonial

विवाह के योग्‍य उपयुक्‍त वर या वधू खोजना एक चुनौतीपूर्ण कार्य है। हिसार परिवार इसमे सहयोग की शुरूआत करने जा रहा है। शीघ्र ही यह कार्य प्रारंभ किया जाएगा जिसकी सूचना सदस्‍यों को दे दी जाएगी।